Categories
Misc

Qu’y a-t-il…?

Premièrement:
Il y a beaucoup de mérite à épouser une femme plus jeune que soi
Il y a beaucoup de mérite à épouser une femme
Il y a beaucoup de mérite à épouser
Il y a beaucoup de mérite
Sans compter les emmerdements.

Deuxièmement:
Il y a beaucoup de mérite à épouser une femme plus vieille que soi
Il y a beaucoup de mérite à épouser une femme
Il y a beaucoup de mérite à épouser
Il y a beaucoup de mérite
Sans compter quìl y a des emmerdements.

Troisièmement:
Il y a beaucoup d’ emmerdements
Sans compter le mérite d’épouser une femme.

Boris Vian.


By Benjamin Cabé

Benjamin is a technology enthusiast with a passion for empowering developers to build innovative solutions. A long-time open source advocate, he co-founded Eclipse IoT in 2011 and is currently working at Microsoft on Azure IoT.

One reply on “Qu’y a-t-il…?”

हमारे पास क्या है / बोहिस वियाँ

पहली बात तो ये है :

हमारे अन्दर बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं कि हम ख़ुद से जवान औरत से शादी कर लें
बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं कि किसी औरत से शादी कर लें
बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं कि शादी कर लें
बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं
अगर शोक-सन्तापों को छोड़ दिया जाए

दूसरी बात ये है :
हमारे अन्दर बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं कि हम ख़ुद से बड़ी उम्र की औरत से शादी कर लें
बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं कि किसी औरत से शादी कर लें
बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं कि शादी कर लें
बहुत-सी ख़ूबियाँ हैं
अगर अफ़सोस और अवसादों को छोड़ दिया जाए

तीसरी बात ये है :
बहुत सी परेशानियाँ हैं
अगर न गिना जाए किसी औरत से शादी करने वाली ख़ूबियों को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *